CM नीतीश को बीजेपी ने किया बायकॉट, जदयू बोली भागने से काम नहीं चलेगा, इतने वर्षों से जीतकर क्या कर रहे हैं?

पटना में हुए जलजमाव के वजह से बीजेपी-जेडीयू नेताओं के बीच बयानबाजी शुरू हो गई थी. इसी बीच मंगलवार को पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में रावण दहन के दौरान बीजेपी और जेडीयू के बीच तब और दूरी देखने को मिली. इस दौरान मंच पर बीजेपी के कोई भी नेता मौजूद नहीं थे. इसको लेकर जेडीयू ने इसे पलायनवादी नजरिया बताया और पार्टी के प्रवक्ता राजीव रंजन ने सवाल पूछ डाला कि बीजेपी नेता जनता को जवाब दे कि वे क्यों नहीं आए?

दरअसल, राजीव रंजन ने कहा कि कोई भी बीजेपी नेता नहीं पंहुचा इसका जवाब भाजपा दे. जनता के सवाल से भागने से काम नहीं चलेगा. अगर वे नहीं पहुंचकर किसी और को कठघरे में खड़ा करना चाहते हैं तो जनता इन सब बातों को समझती है. जेडीयू प्रवक्ता ने कहा कि यह बीजेपी का पलायनवादी नजरिया है. उसको जनता के सवालों का सामना करना चाहिए कि इतने वर्षों से जीतकर क्या कर रहे हैं?

Loading...

इसके साथ ही जेडीयू के सुर में सुर मिलाते हुए कांग्रेस ने भी बीजेपी पर सवाल खड़ा किया है. पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौर ने कहा कि बीजेपी ने खास रणनीति के तहत सीएम बायकॉट किया है. उन्होंने कहा कि डिप्टी सीएम के पटना में रहते हुए भी कार्यक्रम में नहीं पहुंचना बड़ी बात है. यही नहीं मेयर से लेकर विधायकों ने भी दूरी बना ली. जाहिर है सीएम नीतीश के बायकॉट के लिए ऊपर से आदेश मिला होगा.

आपको बता दें कि राजद के वरिष्ठ नेता शिवानंद तिवारी ने भी इसे बीजेपी की विशेष रणनीति करार दिया है. उन्होंने कहा कि सुशील मोदी नहीं पहुचेंगे इसकी कल्पना नहीं की जा सकती. दरअसल, सीएम नीतीश की तरह पीएम नरेंद्र मोदी सारा हिसाब रखते हैं. लोकसभा में नीतीश की जरूरत थी, अब बीजेपी को जरूरत नहीं है. हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा कि भाजपा के नेता सीएम नीतीश कुमार को अपमानित कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि अभी भी मौका है कि सीएम नीतीश भाजपा से नाता तोड़ लें वरना बीजेपी उन्हें कहीं का नहीं छोड़ेगी.

About author