बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने रावण दहन पर दी सफाई, कहा पार्टी के सभी नेता किसी काम में लगे थे

दशहरे के अवसर पर मंगलवार को पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में रावण दहन के दौरान बीजेपी और जेडीयू के बीच तब और दूरी देखने को मिली. इस दौरान मंच पर बीजेपी के कोई भी नेता मौजूद नहीं थे. बीजेपी के नेताओं की गैरमौजूदगी को लेकर लगातार सवाल उठ रहे हैं. मंच पर लगी बीजेपी के नेताओं की कुर्सियां खाली रहीं तो सबसे ज्यादा सवाल इस पार्टी के नेताओं पर उठे, लिहाजा सफाई देने अब पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को सामने आना पड़ा है.

Loading...

दरअसल, बिहार बीजेपी के अध्यक्ष संजय जायसवाल ने दशहरा महोत्सव में बीजेपी नेताओं नहीं जाने पर सफाई दी और इस घटना के बाद से लगाए जा रहे सभी कयासों को गलत बताया है. बीजेपी की बागडोर संभाल रहे जायसवाल ने कहा कि मैं नेपाल में मनोकामना मंदिर में दर्शन कर रहा था. उन्होंने कहा कि सभी नेता किसी न किसी काम में लगे थे, इसलिए वो गांधी मैदान के दशहरा महोत्सव में नहीं पहुंच पाए. उन्होंने कहा कि गांधी मैदान में हमारी पार्टी के नेताओं के नहीं जाने से गठबंधन पर इसका कोई असर नहीं पड़ने वाला है. प्रदेश अध्यक्ष से जब ये बात हो रही थी तो वो नेपाल से बिहार लौटने के रास्ते में थे. उन्होंने कहा कि हमारा गठबंधन पूर्णतः मजबूत है. कोई भी किसी तरह के कयास ना लगाए.

आपको बता दें कि मंगलवार को रावण दहन कार्यक्रम में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, बिहार विधानसभा के स्पीकर विजय कुमार चौधरी और प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष मदन मोहन झा शामिल हुए, लेकिन सीएम नीतीश के बेहद करीबी माने जाने वाले उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की कुर्सी खाली रही. मंच पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बगल में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष बैठे जबकि, सामान्‍यत: उनके बगल में उपमुख्‍मंत्री सुशील मोदी बैठते रहे हैं. सीएम नीतीश कुमार के साथ बीजेपी नेताओं के मंच पर मौजूद नहीं रहने के कारण बिहार एनडीए में दरार पड़ने की अटकलें फिर से जोर पकड़ने लगी है.

About author